प्रकृति की शुद्ध और वास्तविक वनस्पति के साथ आपकी सेवा में ।

  1. वनस्पति ईश्वर का हवा, पानी और रोशनी के बाद चौथा महत्वपूर्ण देन है।
  2. वनस्पति में ईश्वर के आत्मा का वास होता है।
  3. वनस्पति को ग्रहण करने वाले सीधा ईश्वर के आशीर्वाद को ग्रहण करते हैं।
  4. शुद्ध वनस्पति से निर्मित उत्पाद को ISI मार्का की जरुरत नहीं होती है।
  5. सभी वनस्पति में भौतिक और पराभौतिक गुणों का वास होता है।
  6. यही भौतिक और पराभौतिक गुण इन्सान के तन और मन को एकीकृत कर प्रभावशाली बनता है।
  7. वनस्पति में स्थित भौतिक और पराभौतिक गुण निर्विवाद होते हैं।
  8. प्रारम्भ में वनस्पतियों का आयुर्वेदिक प्रयोग सिर्फ रोगों में होता था।
  9. अब स्पोर्ट्स में इसके आने से बेहतर प्रदर्शन की सम्भावना बढ़ी है।
  10. क्रिकेट के खेल से पता चलता है कि विज्ञान मात्र से consistency  नहीं बढ़ती।
  11. खेल में वनस्पति अपनायें अपनी consistency बढ़ायें।
  12. अपना कॉन्फिडेंस, फॉर्म और परफॉरमेंस बढ़ायें।
Facebooktwitter

Leave a Reply

Translate »