Benefits to Captain

कप्तान के लिए उपयोगिता :

सर्वविदित है कि कप्तान टीम का सबसे अधिक महत्वपूर्ण सदस्य होता है। वह टीम की अगुवाई करता है और वह टीम को जिधर ले जाना चाहेगा उधर ले जा सकता है । लेकिन उनकी इच्छा के पूर्ण होने में बहुत सारी बाधाएँआतीं हैं। बहुत बार तो वह इन बाधाओं से निपट लेता पर कभी-कभी इन बाधाओं से पार नहीं पाता और नतीजा उनके इच्छा के  प्रतिकूल आ जाता है।

कप्तान की इन बाधाओं में दो सबसे बड़ी बाधा होती है ; 1. खिलाड़ी का फॉर्म और 2. खिलाड़ी का रवैया ( Attitude )

कप्तान के लिए  खिलाड़ियों के फॉर्म का सही अंदाजा लगाना आसान नहीं होता । वह खिलाड़ी के पिछले परफॉरमेंस को ही खिलाड़ी का फॉर्म मान कर अगले खेल में उनको जगह देते हैं और उसी के आधार पर उससे परफॉरमेंस लेते हैं। अंतत: खिलाड़ी का फॉर्म अच्छा रहा तो खेल बन जाता है  और  फॉर्म  ख़राब रहा तो  खेल  बिगड़  जाता  है और  खेल न जीता  पाने का मलाल कप्तान  को  होता  है ।

आम तौर पर खिलाड़ियों का परफॉरमेंस के प्रति रवैया टीम में अपनी स्थिति से नाखुशी या अति महत्वकांक्षा से ही उभरता है। खिलाड़ी जान बूजकर अपना परफॉरमेंस  बिगड़ता है और इसका शिकार सीधे तौर पर कप्तान ही होता है। ये दोनों ही स्थिति एक कप्तान के लिए तकलीफदायक होता है।

इन दोनों समास्याओं का एक ही इलाज है -फॉर्म । इन-फॉर्म खिलाड़ियों का रवैया हमेशा सकारात्मक होता है चाहे उनकी स्थिति कैसी भी क्यों न हो ।

कप्तानों को लाभ :

  1. कप्तान को खिलाड़ी के उच्चतम क्षमताओं की जानकारी मिलती है।
  2. कप्तान को खिलाड़ी के न्यूनतम क्षमताओं की जानकारी मिलती है।
  3. कप्तान को खिलाड़ी के कॉन्फिडेंस और फॉर्म लेवल के बारे में अद्यतन जानकारी मिलती है।
  4. कप्तान को खिलाड़ी के कॉन्फिडेंस और फॉर्म लेवल के आधार पर खिलाड़ियों के परफॉरमेंस के अनुमान में सहयोग मिल सकता है।
  5. खिलाड़ी के कॉन्फिडेंस और फॉर्म लेवल के बारे में अद्यतन जानकारी के आधार पर प्लेयिंग एलेवेन में शामिल करने का निर्णय लेने में सक्षम होंगे।
  6. खिलाड़ी के कॉन्फिडेंस और फॉर्म लेवल के बारे में  जानकारी के आधार पर खिलाड़ी का क्रम तथा जगह तय कर पायेंगे।
  7. इन-फॉर्म  खिलाड़ी को कोई खास कार्य सौंप सकते हैं।
  8. खिलाड़ी के कॉन्फिडेंस और फॉर्म लेवल के बारे में  जानकारी के आधार पर खिलाड़ी को अपना खेल शैली बदलने का सलाह दे सकते हैं।
  9. निम्न कॉन्फिडेंस और फॉर्म लेवल के खिलाड़ियों को रक्षात्मक खेल के लिए सलाह दे सकते हैं।
  10. आउट-ऑफ़-फॉर्म खिलाड़ियों  को समय रहते बदल सकते हैं।
  11. आउट-ऑफ़-फॉर्म खिलाड़ियों को प्लेयिंग एलेवेन से बाहर रख सकते हैं।
  12. कप्तान अपनी पूरी टीम के फॉर्म का सही अनुमान लगा सकते हैं।

 

( TEAM WITH UNKNOWN CONFIDENCE LEVEL. )

 ( TEAM WITH KNOWN CONFIDENCE LEVEL. )

किसी भी कप्तान के मस्तिस्क में अपने खिलाड़ियों का एक छवि बना रहता है जो कि उसके डील-डौल, रवैया, उसकी शारीरिक क्षमता, उनकी प्रतिबद्दता और पिछले परफॉरमेंस के ऊपर आधारित होता है। यह सिर्फ और सिर्फ बाहय अनुमान और अनुभव पर टिका हुआ छवि होता है। कप्तान अपने प्लेयिंग एलेवेन में उन्हीं खिलाड़ियों को शामिल करता है जिनका पिछला परफॉरमेंस अच्छा होता है। कप्तान की नजरों में वे इन-फॉर्म की अवस्था में होती है। यहीं पर सबसे बड़ा भ्रम की स्थिति बन जाती है और कप्तान चुक जाता है। वस्तुत: खिलाड़ी का फॉर्म उनके शरीर के अंदर से निर्देशित होता है जो कि अदृश्य होता है। वास्तव में फॉर्म के स्थिति का ज्ञान शरीर के वैज्ञानिक और प्राकृतिक विश्लेषण से संभव होता है जो कि एक जटिल गणना के पश्चात ही संभव है।

अगर कप्तान को अपने खिलाड़ियों के फॉर्म ज्ञात हो तो वह अपने प्लेयिंग एलेवेन उपर्लिखित प्रकार से चुन सकता है अन्यथा वह हमेशा चुकते रहता है। उपर दिए गए दो तस्वीरों से साफ पता चलता है कि कप्तान  ज्ञात और अज्ञात अवस्था में दो प्रकार का प्लेयिंग एलेवेन चुन सकता है। सही चुनाव की अवस्था में वह मैदान जीत जाता है और ख़राब चुनाव से अपनी, टीम की, कोच की और मालिकों की छवि ख़राब कर बैठता है।

Translate »