Class

Fantasy11 खेलों के लिए खिलाड़ियों का Class:

क्रिकेट के चार रूप अंतरराष्ट्रीय या घरेलू स्तर  पर खेले जाने के आधार पर क्रिकेट खिलाड़ियों को निम्न पाँच प्रकार में विभित किया जा सकता है। यथा;

  1. प्रथम श्रेणी क्रिकेटर: प्रथम श्रेणी क्रिकेट, क्रिकेट खेल का एक स्वरुप है जिसमें किसी मान्यताप्राप्त देश के उच्च स्तर की घरेलु टीम राष्ट्रीय स्तर पर खेलती है। यह खेल दो टीमों के मध्य होती है। इस तरह के मैच में हर पक्ष में ग्यारह खिलाड़ी, दो पारी और कम से कम तीन  दिन की निर्धारित अवधि होती है। इस खेलों तक सीमित खिलाड़ियों को प्रथम श्रेणी क्रिकेटर ( First Class Cricketer ) कहा जाता है।

  2. टेस्ट क्रिकेटर: टेस्ट क्रिकेट अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रथम श्रेणी का खेल है। यह खेल टेस्ट के लिए मान्यता प्राप्त देशों के बीच ही आयोजित की जाती है। यह खेल दो अंतराष्ट्रीय टेस्ट टीमों के बीच आयोजित की जाती है। एक टेस्ट मैच के प्रति पक्ष में ग्यारह खिलाड़ी, दो पारी और कम से कम पाँच दिन की निर्धारित अवधि होती है। । कुछ खिलाड़ी टेस्ट क्रिकेट के विशेषज्ञ होते हैं और इन खेलों में महत्वपूर्ण स्थान बना लेते हैं। टेस्ट खेल के ऐसे विशेषज्ञ खिलाड़ियों को टेस्ट क्रिकेटर ( Test Cricketer ) कहा जाता है।  

  3. लिमिटेड ओवर/ वन डे क्रिकेटर : लिमिटेड ओवर क्रिकेट अंतरराष्ट्रीय स्तर पर One Day Cricket कहा जाता है। इस खेल में एक पारी में अधिकतम 50 ओवर का खेल होता है। खेल का यह विधा राष्ट्रीय एवं अंतराष्ट्रीय दोनों प्रकार से आयोजित होती हैं। इस तरह के क्रिकेट में महारत हासिल खिलाड़ियों को वन डे क्रिकेटर ( One Day Cricketer ) कहा जाता है।

  4. T-20 क्रिकेटर: T-20 क्रिकेट 21वीं सदी का एक लोकप्रिय खेल है। वर्त्तमान में यह बहुत ही ज्यादा पसंद और देखे जाने वाला क्रिकेट है। इस खेल में एक पारी में अधिकतम 20 ओवर का खेल होता है जिससे इसे फटाफट क्रिकेट भी बोला जाता है। इस खेल खेल में परांगत खिलाड़ियों को T-20 क्रिकेटर ( T-20 Cricketer ) कहा जाता है।

  5. T-10 क्रिकेटर: T-10 क्रिकेट फटाफट क्रिकेट का नवीनतम फॉर्मेट है। यह धमाकेदार क्रिकेट है। यह फॉर्मेट अभी यूरोप में बहुत ज्यादा खेली जा रही है जबकि भारत में यह फॉर्मेट गाँव और शहरों तक ही सीमित है। इस खेल में एक पारी में अधिकतम 10 ओवर का खेल होता है। इस खेल में परांगत खिलाड़ियों को T-10 क्रिकेटर ( T-10 Cricketer ) कहा जाता है।

Fantasy खेलों में किसी भी खेल में टीमों को बनाते वक्त खिलाड़ियों की विशेषज्ञता को ध्यान में रखना बहुत जरुरी है। टेस्ट खिलाड़ी को T-20  या  T-10 का हिस्सा बनाना कभी भी फायदेमंद नहीं रहता।

Translate »