Dynamic Reformer

 

डायनामिक रिफॉर्मर ( DYNAMIC REFORMER )

             राष्ट्रीय या अन्तराष्ट्रीय खिलाड़ी विश्व के उन स्वस्थतम लोगों में से हैं जो शारीरिक और मानसिक रूप से बहुत ही ताकतवर होते हैं। उनके अन्दर की ताकत ही उनके हुनर को निखारती है और उत्कृष्ट प्रदर्शन में तब्दील करती है। लेकिन उनके अन्दर की ताकत में मामूली अंतर आने से उनके प्रदर्शन पर बहुत बड़ा अंतर आता है। उनका प्रदर्शन अपने औसत से नीचे चला आता है। खिलाड़ी हीरो से जीरो में बदल जाता है, और खिलाड़ी कुछ नहीं कर सकता है। खिलाड़ी के कोच एवं अन्य सहयोगी कर्मी या पदाधिकारी भी कुछ नहीं कर सकते। क्योंकि मामला खिलाड़ी के स्वास्थ्य का अंदरूनी हिस्से का होता है।

                ऐसी स्थिति में तत्काल तो कुछ नहीं किया जा सकता पर यदि इसकी पूर्व तैयारी कर ली जाय तो ऐसी स्थिति खिलाड़ी के खेल में आयेगा ही नहीं। मतलब यह कि उनका फॉर्म अपने औसत से नीचे आयेगा ही नहीं। खिलाड़ी लगातार अपने फॉर्म में ही दिखलाई पड़ेगा और अपना मन पसंद परफॉरमेंस देगा, कोच एवं अपने पदाधिकारियों को खुश करेगा।

इन सब का समाधान निकालने के पहले आपको यह पता लगाना होगा कि :

  1. खिलाड़ियों के ताकत को कौन-कौन से कारक तत्व हानि पहूँचाते हैं ?
  2. ये तत्व उनके किन-किन अंगों को प्रभावित करते तथा उनके खेल को ही बिगाड़ देते हैं?
  3. यह भी जानने की चीज हैं कि खिलाड़ियों के खेल का आधार स्तम्भ कौन सा अंग होता है?

किसी भी खेल को उत्कृष्टता के साथ सम्पन्न करने के लिए चार अंगों का बहुत ही ज्यादा योगदान होता है, यथा :

  1. आँखे
  2. तंत्रिका प्रणाली
  3. हथेली, और
  4. पैर के पंजे।

DSC_0807

ये चार अंग यदि सही और स्वास्थ्य स्थिति में रहता है तो खिलाड़ी अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करता है। इन सब अंगों के आपसी तालमेल से ही खिलाड़ी अपने हुनर को प्रदर्शन में तब्दील करता है। डायनामिक रिफॉर्मर में इन अंगों के रख-रखाव और सेहत पर विशेष ध्यान दिया गया है। इन अंगों तक रक्त की संपूर्ण संचार और आबाधित ऑक्सीजन की आपूर्ति को अभिकल्पित की गई है। हमारे डायनामिक रिफॉर्मर को कुछ खास व्यायाम के साथ और भी ज्यादा प्रभावी बनाया जा सकता है।

 

 

Translate »