FAQ-Performance

1. स्पोर्ट्स में परफॉरमेंस क्या होता है ?

किसी भी कार्य या खेल में किसी व्यक्ति विशेष या खिलाड़ी के द्वारा प्रतिस्पर्धात्मक क्रियाकलाप की परिणति  को ही परफॉरमेंस कहते हैं। परफॉरमेंस के लिए क्रियाकलाप सिर्फ और सिर्फ मानवीय होना एक अनिवार्य शर्त होती है। शारीरिक और मानसिक कार्य दोनों को ही इसके अन्तर्गत शामिल किया जाता है। इसमें गैर परम्परागत चिकित्साकीय या यांत्रिक सहयोग का समावेश बिलकुल ही वर्जित है। व्यक्ति या खिलाड़ी के परफॉरमेंस पर उनके शारीरिक और मानसिक स्वस्थ्य का गहरा प्रभाव होता है, ऐसा इसलिए होता है क्योंकि यह व्यक्ति के कॉन्फिडेंस लेवल से सीधा जुड़ा रहता है। इसका सीधा सा अर्थ है, यदि कॉन्फिडेंस उच्च होगा तो परफॉरमेंस अच्छा होगा और निम्न होगा तो परफॉरमेंस भी निम्न स्तर का ही होगा। परफॉरमेंस का मानक खेल की अलग-अलग विधाओं में भिन्न तरह की होती है, पर उच्चता को अगर प्रतिशत में देखा जाय तो इसमें काफी कुछ समानता देखा जा सकता है।

2. परफॉरमेंस कब बनता और बिगड़ता है ?

परफॉरमेंस का सीधा-सीधा सम्बन्ध कॉन्फिडेंस और फॉर्म से होता है। कॉन्फिडेंस में उतार-चढ़ाव से फॉर्म में भी उतार-चढ़ाव आता है और इससे परफॉरमेंस भी अनिश्चितता में पड़ जाती है। खेलों में खिलाड़ी के खेलते समय उनके कार्य करने की सटीकता देख कर सहजता से पता चल जाता है कि आमुख खिलाड़ी के कॉन्फिडेंस में कमी है और वह परफॉरमेंस नहीं दे सकता। कॉन्फिडेंस की कमी के कारण एकल या डबल खेल में खिलाड़ियों को असीमित नुकसान होता है तथा क्रिकेट के खेल में भी मुख्य खिलाड़ियों की कॉन्फिडेंस चले जाने से टीम को बहुत हानि होती है क्योंकि खिलाड़ियों को बदलने का अवसर नहीं होता है। फुटबॉल एवं हॉकी इत्यादि खेलों में नुकसान अपेक्षाकृत कम होती है क्योंकि समय रहते कॉन्फिडेंस की कमी वाले खिलाड़ियों को बदला जा सकता है।

3. अच्छा परफॉरमेंस प्राप्त करने के लिए किन चीजों की अवश्यकता होती है ?

अच्छा परफॉरमेंस प्राप्त करने के लिए कम से कम इन छ: चीजों की अवश्यकता बहुत ही जरुरी होता है:

  1. हुनर  2. ताकत   3. कॉन्फिडेंस   4. सटीकता   5. एकाग्रता और 6. धैर्य ।

4. क्या परफॉरमेंस को मैनेज किया जा सकता है ?

परफॉरमेंस को मैनेज किया जा सकता है और यह सत्य है कि इसे मैनेज कर मैच के साथ-साथ टूर्नामेंट को भी जीता जा सकता है। परफॉरमेंस प्राप्त करने के लिए छ: अवश्यक चीजों में से यदि कॉन्फिडेंस को मैनेज कर लिया जाय तो बाकी के पांचों चीजें स्वत: ही पटरी पर आ जाती है। पाँचों को अलग-अलग मैनेज करने की जरूरत नहीं होती।

5. क्या मैनेज्ड परफॉरमेंस से मैच जीता जा सकता है ?

यह सहज सत्य है कि परफॉरमेंस को मैनेज कर मैच के साथ-साथ टूर्नामेंट को भी जीता जा सकता है। यदि कोई खिलाड़ी या टीम के सभी खिलाड़ी मैनेज्ड रूप से अच्छा परफॉर्म करें तो टीम को जीतने से कोई रोक नहीं सकता।

Translate »