Smooth Reformer

स्मूथ रिफॉर्मर ( SMOOTH REFORMER )

मानव स्वस्थ्य पर उसके प्रजनन तंत्र का बहुत प्रभाव रहता है। ये दोनों एक दूसरे के पर्याय माने गए हैं। शरीर स्वस्थ्य रहेगा तो प्रजनन तंत्र सही रहेगा और प्रजनन तंत्र दुरुस्त रहेगा तो स्वस्थ्य ठीक रहेगा, ऐसा लोगों का मानना है। लेकिन ऐसा नहीं है, बहुत बार ऐसा देखा गया है कि शरीर हिस्ट-पुस्त है लेकिन प्रजनन तंत्र ठीक नहीं रहता है और भला चंगा दिखने वाला शख्स भी कमजोरी और सेक्स के प्रति उदासीन दीखता है। लेकिन जिस शख्स का प्रजनन तंत्र सही होता है उसका स्वस्थ्य हर हालत में सही और प्रभावकारी होता है। शख्स शरीर से हिस्ट-पुस्त, चेहरा चमकदार, आकर्षक, खुशमिजाज और हमेशा ललित-मुद्रा में रहता है।

प्रजनन तंत्र दो तरह से प्रभावित होता है। 1. अंदरूनी अक्षमता और 2. बाहरी संक्रमण ।

  1. प्रजनन तंत्र की आन्तरिक अक्षमताओं में आंगिक विकृति के अलावा वीर्य की कमी, टेस्टोस्टेरोन का ना बनना, वीर्य का पतलापन, शुक्राणुओं की कमी से पौरुषत्व की कमी झलकती है। इन कमियों से शरीर के अन्दर नसों में खून का उचित दबाव नहीं बन पाता है। इन कमियों से युवाओं में अथवा पुरुषों में लैगिक उत्साह की कमी स्पस्ट दिखती है। इससे पुरुष अन्तेर्मुखी हो जाता है और पौरुषत्व के प्रदर्शन का अनिच्छुक हो जाता है। खिलाड़ियों में अगर इस तरह की विकृति या कमजोरी आ जाय वह अपने सर्वश्रेठ प्रदर्शन से चुकता रहता है। इस तरह के विकृतियों को नजरंदाज करने से खिलाड़ियों पहला असर उनकी तत्परता में दिखती है। धीरे-धीरे उनकी शक्ति में ह्रास होता है और वह खेल से बाहर हो जाता है।
  2. जननांगों में संक्रमण जनित रोगों का आना एक चिंता का विषय होता है। गुप्तांगों में किसी भी तरह का रोग को समझना बहुत कठिन होता है। इसे शेयर करना, इलाज़ कराना कठिन होता है क्योंकि इसे किसी को बताने में शर्मिंदगी महसूस होती है। सामने वाला क्या कहेगा, क्या सोचेगा यह आशंकित करने वाला प्रश्न होता है। क्योंकि कोई-कोई गुप्तरोग से शारीरिक हानि नहीं होती तो उसे लोग नजरंदाज़ कर देते हैं, लेकिन उससे हमेशा चिंतित रहते है। कोई-कोई बीमारी बहुत हानिकारक और बहुत तेजी से फैलनेवाला होता है और सड़ने का गंद भी गुप्तांगों से आने लगता है ऐसे रोगों का तत्काल इलाज नहीं न होने से ये परेशानी में डाल सकता है। अत: ऐसे रोगों को तुरंत चिकित्सक को दिखाना चाहिए। प्रमुख गुप्त रोगों में, HIV संक्रमण, सुजाक, उपदंश एवं शुक्र-रोग आते हैं। इनके अलवा कई और गुप्त रोग हैं जो सेक्स के माध्यम से एक-दुसरे के उपर फैलता है।

SMOOTH REFORMER ( स्मूथ रिफॉर्मर ) की परिकल्पना इसी आधार पर की गयी है कि अगर प्रजनन तंत्र को प्रभावित करने वाला कोई अंदरूनी लक्ष्ण यदि किन्हीं व्यक्ति में है तो उसे निर्मूल किया जाय तथा बाहरी संक्रमण से सुरक्षित रखने के लिए पहले ही उनके शरीर में एंटीबाडी या प्रतिरोधक क्षमता विकसित किया जाय।

अगर कोई खिलाड़ी या व्यक्ति इन प्रतिरोधक क्षमताओं से परिपूर्ण रहता है तो अवांछित मानसिक चिंताओं से दूर रहता है और अपने परफॉरमेंस को उच्चतम मापदंडों पर स्थिर रखता है।

DSC_0810-1

Translate »